अन्तर्राष्ट्रीयअन्यअपराधकारोबारखेलताजा खबरेंप्रदेशफोटोबॉलीवुडभारतमनोरंजनराष्ट्रीयविश्व

लोकसभा चुनाव 2019: क्या दिग्विजय सिंह को प्रज्ञा ठाकुर हरा पाएंगी- नज़रिया

भोपाल लगातार भारतीय जनता पार्टी का गढ़ रहा है और बीजेपी से पहले ये जनसंघ का गढ़ था.

कुल मिलाकर यहां से कांग्रेस के केवल चुनिंदा प्रत्याशी जीते हैं. एक बार पूर्व राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा और आख़िरी बार केएन प्रधान चुनाव जीते थे.

इस बात को भी तीन दशक हो गए हैं. इसलिए बीजेपी अपने गढ़ को इतनी आसानी से तो नहीं खोना चाहेगी.

यही कारण है कि बीजेपी ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को भोपाल से मैदान में उतारने का फ़ैसला किया.

बहुत अच्छा रिकॉर्ड न होने के बावजूद कांग्रेस ने एक सरप्राइज़ कैंडिडेट के रूप में दिग्विजय सिंह को यहां से अपना उम्मीदवार बना दिया.

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पत्रकारों के साथ एक साधारण सी बातचीत के दौरान दिग्विजय सिंह के नाम की घोषणा कर दी थी.

Comment here