Uncategorized

धूमधाम से प्रारंभ हुआ शंकरगढ़ का प्रसिद्ध दसहरा

विजय दशमी को राजा के नजराने में पहुंचे क्षेत्र के आमोख़ास

दसहरे पर तीन दिन तक लगता है वृहद मेला

शंकरगढ़ (प्रयागराज)
शंकरगढ़ कसौटा राज्य के राजा महेंद्र प्रताप सिंह की कोठी मे व्याघ्र वंश के ३७ वें राजा महाराव राजा महेन्द्र प्रताप सिहं का शंकरगढ़ स्थित गिरिराज भवन में दसहरे के दिन वंसजीय परंपरा के अनुसार पूरे शानो शौकत से भव्य दरबार सजाया गया जिसमें दूर दूर के आम और खास लोगों ने पंहुचकर राजा का नजराना किया। इस बीच विजय दशमी से शुरू होकर अगले तीन दिन तक राजभवन प्रांगण में लगने वाले मेले में दूर दूर से आये हुए लोगों ने जमकर खरीददारी की।
शंकरगढ़ दसहरे की शुरुआत नवरात्रि प्रारम्भ से रामलीला मंचन से शुरु हो जाती है।दस दिन राजभवन परिसर में रामलीला मंचन के समापन के बाद विजयदशमी को रावण वध हुआ। दसहरे की शाम, परंपरागत शानो शौकत से शंकरगढ़ राजा के दरबार में लोगों ने पंहुचकर अपने राजा की आरती उतारी। पूरे क्षेत्र के लोगों ने वर्षों से चली आ रही शाही परंपरा के अनुसार राजा को नजराना पेश किया । इस भव्य आयोजन में पूरे विधि विधान से शस्त्र पूजन तथा स्वस्तिवाचन किया गया ।
गौरतलब हो कि शंकरगढ़ राजघराने की नजराने की यह परंपरा सैकड़ों वर्षों से चली आ रही है । लोगों का मानना है कि अपने राजा सकुशल स्वस्थ रहे जिसके लिए नजर उतारी जाती है। इसी परम्परा को निभाते हुए शंकरगढ़ के राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नजराने का कार्यक्रम हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी किया गया। इस मौके पर शंकरगढ़ क्षेत्र के तमाम बुद्धिजीवी व वरिष्ठजन मौजूद रह कर राज दरबार की शोभा बढ़ाते हैं।
राजशाही ठाट से राजा शंकरगढ़ ने वैदिक मंत्रोच्चार के साथ शास्त्रों की भी पूजा की । इस बीच उपस्थित सभी लोगों ने राजा महेंद्र प्रताप सिंह की लंबी आयु के लिए प्रार्थना भी की। दशहरे कार्यक्रम में युवराज शिवेंद्र प्रताप सिंह सहित कई परिवारी जन मौजूद रहे। क्षेत्र के अन्य लोगों में बंसू सिंह, नार सिंह सोलंकी,जीत बहादुर सिंह अशोक सिंह, गोरेलाल सिंह, गोपाल दास गुप्ता , सूर्य निधान पांडेय, विजय बाबू गुप्ता, मधु सोलंकी, संतराम गुप्ता, हरिनारायण त्रिपाठी,देवदत्त द्विवेदी,दीपक मिश्रा सुरेश केसरवानी आदि लोग मौजूद रहे।

जी जी न्यूज लाइव
प्रयागराज से के सी शुक्ल की रिपोर्ट

Comment here