Uncategorized

एक और हिंदू पक्षकार पिता-पुत्र ने जताई हत्या की आशंका

सोशल मीडिया और फोन पर मिली धमकी, गोरखपुर व जानकीपुरम थाने में रिपोर्ट दर्ज

-कमलेश तिवारी हत्याकांड के खिलाफ की थी टिप्पणी

-आईजी से सुरक्षा की गुहार

 

 

लखनऊ। हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या की सोशल मीडिया व न्यूज चैनल पर कड़ी निंदा करने वाले हिंदू पक्षकार पिता-पुत्र ने खुद की हत्या किए जाने की आशंका जताई है। दोनों का दावा है कि उन्हें सोशल मीडिया व फोन पर धमकी दी जा रही है। इस मामले में गोरखपुर और जानकीपुरम थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई गई है। सहमे पीड़ित ने आईजी एलओ से मुलाकात कर सुरक्षा की मांग की है।

सेक्टर तीन जानकीपुरम निवासी विनय तिवारी ने बताया कि वह सामाजिक कार्यकर्ता होने के साथ ही अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा का प्रदेश अध्यक्ष व उसके पिता राजेंद्र नाथ त्रिपाठी राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। विनय के मुताबिक वह राम मंदिर आदि मुद्दों व हिंदू पक्षकार के तौर पर न्यूज चैनल में डिबेट करता है। 19 अक्टूबर की शाम चार से पांच बजे के बीच वह एक न्यूज चैनल पर कमलेश तिवारी हत्याकांड को लेकर डिबेट कर रहा था। बाहर निकलने पर गोरखपुर में रह रहे पिता राजेंद्रनाथ तिवारी ने बताया कि कमलेश तिवारी की हत्या से आहत होकर वह दोपहर करीब दो बजे फेसबुक पर लाइव आए थे। तभी 2:10 बजे किसी अहमद एम नाम के शख्स ने कमेंट किया कि अब तेरा नंबर है। इस कमेंट को उन्होंने नजर अंदाज कर दिया था। लेकिन शाम 5:59 बजे उन्हें कॉल कर जान से मार देने की धमकी दी गई। जिससे वह डर गए। इसके बाद कई और कॉल आईं जिन्हें उन्होंने रिसीव नहीं किया। घटना को गंभीरता से लेते हुए राजेंद्र ने गोरखपुर के बड़हलगंज थाने में रिपोर्ट दर्ज करवा दी। इधर विनय के मुताबिक रविवार सुबह करीब 11:22 बजे उसके मोबाइल पर प्राइवेट नंबर लिख कर कॉल आई। जिसमे कोई नंबर शो नहीं कर रहा था। इस पर उन्होंने कॉल रिसीव नहीं की। इसके बाद कई बार कॉल आती रही। सहमे विनय ने रविवार देर रात जानकीपुरम थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई है। इंस्पेक्टर जानकीपुरम मुहम्मद अशरफ ने बताया कि रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी गई है।

आईजी ने एसएसपी को दिए सुरक्षा के निर्देश

विनय तिवारी ने बताया कि सुरक्षा को लेकर वह सोमवार को आईजी एलओ प्रवीण कुमार से मुलाकात की थी। पूरे प्रकरण की जानकारी लेने के बाद आईजी न एसएसपी कलानिधि नैथानी से बात करके पीड़ित परिवार को सुरक्षा मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा आईजी ने एसएसपी गोरखपुर से भी फोन पर बात कर प्रकरण की जानकारी ली।

Comment here